लगातार नेकी का कार्य कर रही सिवनी कोतवाली पुलिस

सिवनी- कोरोना वायरस महामारी के चलते पूरे देश में लॉकडाउन लागू था। इस लॉकडाउन में लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था, लेकिन कोरोना को हराने में यही एक कारगर तरीका था। लॉकडाउन में वैसे तो सरकार और समाजसेवी संगठन बढ़-चढ़ कर लोगों की मदद कर रहे हैं, लेकिन सिवनी में पुलिस अपनी जान की परवाह किए बिना जरूरतमंदों की मदद के लिए सामने आ रहे थे।

कोतवाली पुलिस जरूरतमंदों की बन रही मददगार

सिवनी कोतवाली थाना प्रभारी महादेव नागोतिया भी सिवनी पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक व वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मार्गदर्शन में शांति-सुरक्षा कायम रखने के साथ ही आपराधिक गतिविधियों की रोकथाम भी कर रहे है। उसने कोतवाली पुलिस का मानवीय चेहरा लोगों के सामने लाया है। कोतवाली पुलिस ने लोगों की मदद के लिए नेकी की दीवार भी शुरू किया है और जिसका मकसद है- जरूरतमंद लोगों को सामान उपलब्ध कराना। ग़रीब लोगों को खाना खिलाना हो, सड़क पर ज़रूरतमंदों को मदद पहुंचाने का काम हो या फिर बुजुर्ग लोगों का ध्यान रखना हो, हर काम सिवनी कोतवाली पुलिस ने दिल से किया है और यहीं वजह है कि सिवनी के लोगों को पुलिस का एक नया चेहरा देखने को मिला है।

सिवनी कोतवाली थाना प्रभारी महादेव नागोतिया भी सिवनी पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक व वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मार्गदर्शन में शांति-सुरक्षा कायम रखने के साथ ही आपराधिक गतिविधियों की रोकथाम भी कर रहे है। इसके साथ ही समाजिक सरोकार के मामले में सक्रियता के साथ वर्दी के साथ हमदर्दी जताते हुये नजर आ रहे है।

महावेद नागोतिया वर्दी के साथ हमदर्दी वाले अधिकारी

वहीं कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी महावेद नागोतिया की वर्दी के साथ हमदर्दी की कार्यप्रणाली कई पुलिस थाना में आज भी यादगार बनी हुई है। जबलपुर संभाग के जिन पुलिस थानों में महोदव नागोतिया थाना प्रभारी के रूप में पदस्थ रहे है। वहां पर सामाजिक बुराई जुआं-सट्टा के खिलाफ तो उन्होंने हमेशा सक्रियता के साथ अभियान चलाया है वहीं सामाजिक सरोकारों से जुड़े हुये महत्वपूर्ण विषयों पर गंभीरता व संवेदनशीलता को प्रमाणित कर प्रमाण बन चुके है। वहीं जब वे सिवनी कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी के रूप में पदस्थ हुये है उसके बाद से उन्होंने कोरोना संकट से बेरोजगार हुये परिवारों को आर्थिक मदद के साथ भोजन आदि की व्यवस्था किया है। इसके साथ ही होनहार निर्धन बच्चियों के उज्जवल भव्ष्यि की चिंता करते हुये उन्होंने एफडी भी करवाया है। इसके साथ ही नेकी की दीवार के माध्यम से भी जरूरतमंदों को मदद करने का अभियान चलाया जा रहा है।

35 हजार जमा कर वापस दिलाया फाईनेंस कंपनी से जप्त ऑटो

हम आपको बता दे कि ऐसा ही संवदेनशीलता का प्रमाण कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी महादेव नागोतिया व कोतवाली पुलिस थाना का स्टाफ बनकर सामने आया है। ऑटो चलाकर अपने घर परिवार का भरण पोषण करने वाले शकील अहमद जो कि लॉकडाऊन के बाद से ही आर्थिक तंंगी के चलते ऑटो कि किस्त नहीं पटा पा रहे थे। जिसके कारण ऑटो फाईनेंस करने वाली कंपनी द्वारा शकील अहमद से ऑटो जप्त कर लिया था। इसकी जानकारी जब कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी महादेव नागोतिया व कोतवाली पुलिस स्टाफ को मिली तो उन्होंने सबने मिलकर 35000 रूपये एकत्र कर फाईनेंस कंपनी में जमा करवाया एवं जप्त ऑटो को वापस शकील अहमद को दिलवाया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *