गौ माता कि जय हो गौ हत्या बंद हो

सिवनी- अनन्वत श्री विभूषित काशी धर्मपीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी नारायणानन्द तीर्थ जी महाराजश्री के सानिध्य मे नारायण यज्ञ सेवा समिति नारायण धाम कोठीघाट के पदाधिकारी एवं भक्तजन के द्वारा आयोजन पर महाराज श्री ने समस्त भक्तों को गो रक्षा के बारे में बतलाते हुए कहा कि गौ का संवर्धन होना चाहिए हमें गौ की रक्षा-सुरक्षा के लिए सतत प्रयास रत रहना चाहिए गौ का दूध अमृत समान है। गौ का दर्शन तथा समस्त पापों को भस्म कर देता है। क्योंकि श्रीमदगीता में भगवान श्री कृष्ण ने कहा है कि “गो मध्ये वसाम्यहं” महाराज श्री ने नारायण धाम गोशाला का उद्घाटन करके गो पूजन भक्तों से करवाया यज्ञ तथा श्रीमद्भागवत ज्ञान यज्ञ के माध्यम से समस्त भक्तों को संदेश दिया कि हिंसक ही कंस है। कंस के अत्याचार से भक्तों को मुक्त करने के लिए भगवान को मथुरा जाना पड़ा और व्रजवासियों को सहना पड़ा मथुरा पहुंचकर श्री कृष्ण ने कुलटा जैसी अभला पर भी कृपा करके संदेश देते हैं।सूरत ही नही बल्कि सीरत भी देखना चाहिए तीन जगह से टेढ़ी कुलटा के ऊपर कृपा करके उसको परम सुंदर बना दिए और कंस को मल्लसाला पहुंचकर सभी को अलग अलग रूप दिखाए कंस का उद्धार किये जरासंध को 23-23 अक्षोहिणी सेना के साथ 13 बार परास्त किये और फिर द्वारिका में नगर बसाकर द्वारिकाधीश बने लक्ष्मी स्वरूपा रुक्मिणी से विवाह करके प्रथम विवाह संपन्न किये भगवान का संदेश है। कि लक्ष्मी पति बनने की ज़रूरत नही है लक्ष्मी पुत्र बनो तो भगवान की प्रसन्नता होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *